Geeta Updesh
Geeta shlok

प्रकृतिम स्वामवष्टभ्य विसृजामि पुन: पुन: ।
भूतग्राममिमं कृत्स्नमवशम प्रकृतेर्वशात॥

अर्थ –

गीता के चौथे अध्याय और छठे श्लोक में श्री कृष्ण जी कहते हैं कि इस समस्त प्रकृति को अपने वश में करके यहाँ मौजूद समस्त जीवों को उनके कर्मों के अनुसार मैं बारम्बार रचता हूँ और जन्म देता हूँ|

Share this with friends
  • 181
  • 0