परित्राणाय साधूनाम् विनाशाय च दुष्कृताम्…

Geeta Updesh

परित्राणाय साधूनाम् विनाशाय च दुष्कृताम्।
धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे-युगे॥

 अर्थ –

इस श्लोक का अर्थ है: सज्जन पुरुषों के कल्याण के लिए और दुष्कर्मियों के विनाश के लिए… और धर्म की स्थापना के लिए मैं (श्रीकृष्ण) युगों-युगों से प्रत्येक युग में जन्म लेता आया हूं।

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.