अनाश्रित: कर्मफलम कार्यम…

अनाश्रित: कर्मफलम कार्यम कर्म करोति य:।
स: संन्यासी च योगी न निरग्निर्ना चाक्रिया:।।

अर्थ –

श्री कृष्ण जी कहते हैं कि हे अर्जुन, जोभी भी मनुष्य बिना कर्मफल की इच्छा किये हुए कर्म करता है व अपना दायित्व मानकर सत्कर्म करता है वही मनुष्य योगी है और जो मनुष्य सत्कर्म नहीं करता वह संत कहलाने योग्य नहीं है|

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.