Shayari Quotes

थोड़ी मस्ती थोड़ा सा ईमान बचा पाया हूँये क्या कम है मैं अपनी पहचान बचा पाया हूँकुछ उम्मीदें, कुछ सपने, कुछ महकती यादेंजीने का मैं इतना ही सामान बचा पाया हूँ.Read Full Quote

Share this with friends