Shayari

Shayari

बुझी शाम भी जल सकती है, तूफानों से कश्ती भी निकल सकती है, हो के मायूस यूँ ना अपने इरादे बदल, तेरी किस्मत कभी भी बदल सकती है !

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.