Shayari

Shayari

जिंदगी में छांव है तो कभी धुप है, ऐ जिंदगी न जाने तेरे कितने रूप है, जिंदगी में हालात जो भी हों, लेकिन जिंदगी में मुस्कुराना नहीं भूला करते हैं |

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.