लिखना था कि खुश हैं…

Shayari

लिखना था कि खुश हैं तेरे बगैर भी यहां हम, मगर कमबख्त, आंसू हैं कि कलम से पहले ही चल दिए !

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.