मुस्कराहट का कोई…

Shayari

मुस्कराहट का कोई मूल नहीं होता , कुछ रिश्तो का कोई तोल नहीं होता !
वैसे लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर कोई आप की तरह अनमोल नहीं होता !

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.