मेरे इश्क़ से मिली है…

Shayari

मेरे इश्क़ से मिली है ,तेरे हुस्न को ये शौहरत, तेरा ज़िक्र ही कहाँ था, मेरी दीवानगी से पहले|

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.