हर रोज गिरकर भी

हर रोज गिरकर भी, मुक्कमल खड़े हैं…!
ए जिंदगी देख,
मेरे हौसले तुझसे भी बड़े हैं.

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.