ज़िन्दगी की उलझनों ने

ज़िन्दगी की उलझनों ने शरारतें कम कर दी !
और लोग समझते हैं हम बड़े हो गए

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.