वही समाज सदैव सुखी रहकर

“वही समाज सदैव सुखी रहकर तरक्की कर सकता है, जिसमें लोगों ने आपसी प्रेम को आत्मसात कर लिया |”

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.