kahawaten
kahawaten

तीतर पारवी बादरी, विधवा काजर देय !
वे बरसे वे घर करें, ईमें नयी सन्देह !

Share this with friends