Prernadayak

Prernadayak

यदि कोई युवक अपने शिक्षा – काल में सदाचारी रहकर जीवन व्यतीत कर लेता है तो यह समझ लेना चाहिए की वह जीवन- भर के लिए कुछ बन गया !  उस काल में प्राप्त हुए सिद्धि उसके महान ऐश्वर्य के समान है !

Share this with friends