Prernadayak

Prernadayak

शिक्षक और सड़क दोनों एक जैसे होते है, खुद जहाँ है वही पर रहते है मगर दूसरों को उनकी मंजिल तक पहुंचा ही देते है |

Share this with friends