Prernadayak
Prernadayak

जीवन की विडंबना यह नहीं है कि आप अपने लक्ष्य तक नहीं पहुंचे ,बल्कि यह है कि पहुँचने के लिए आपके पास कोई लक्ष्य ही नहीं था |

Share this with friends