Hindi Suvichar

कोई भी व्यक्ति हमारा मित्र या शत्रु बनके संसार में नहीं आता, हमारा व्यवहार और शब्द ही लोगों को मित्र और शत्रु बनाता हैं !Read Full Quote

Share this with friends
Hindi Suvichar

ब्रह्माण्ड की सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं| वो हमीं हैं जो अपनी आँखों पर हाँथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अन्धकार है|Read Full Quote

Share this with friends
Hindi Suvichar

कभी भी दुष्ट लोगों की सक्रियता समाज को बर्वाद नहीं करती, बल्कि हमेशा अच्छे लोगों की निष्क्रियता समाज को बर्बाद करती है|Read Full Quote

Share this with friends
Hindi Suvichar

संसार एक कड़वा वृक्ष है, इसके दो फल ही अमृत जैसे मीठे होते हैं – एक मधुर वाणी और दूसरी सज्जनों की संगति।Read Full Quote

Share this with friends
Hindi Suvichar

क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकडे रहने के सामान है इसमें आप स्वंय ही जलते हैं|Read Full Quote

Share this with friends
Hindi Suvichar

क्रोध एक प्रचंड अग्नि है, जो मनुष्य इस अग्नि को वश में कर सकता है, वह उसको बुझा देगा | जो मनुष्य अग्नि को वश में नहीं कर सकता, वह स्वंय अपने को जला लेगा |Read Full Quote

Share this with friends
Hindi Suvichar

आपको अपने भीतर से ही विकास करना होता है। कोई आपको सीखा नहीं सकता, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। आपको सिखाने वाला और कोई नहीं, सिर्फ आपकी आत्मा ही है।Read Full Quote

Share this with friends