Geeta updesh

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत:।अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्॥ अर्थ– इस श्लोक का अर्थ है: हे भारत (अर्जुन), जब-जब धर्म ग्लानि यानी उसका लोप होता है और अधर्म में वृद्धि होती है, तब-तब मैं (श्रीकृष्ण) धर्म के अभ्युत्थान के लिए स्वयम् की रचना करता हूं अर्थात अवतार लेता हूं। Rate thisRead Full Quote

Share this with friends
Prernadayak

आप चतुर होते हुए भी बेढंगे हो सकते हैं | निर्धन होते हुए भी कलात्मक या विशेष हो सकते हैं | कैलेंडर के एक पन्ने को फाड़ देने से आप अच्छे या बुरे नहीं हो जाएंगे | सुबह से लेकर शाम तक का नजरिया ही आपको बनाता या बिगाड़ता हैRead Full Quote

Share this with friends
Prernadayak

ठोकर खाकर ही व्यक्ति संभालता है | गिर- कर उठना और फिर भविष्य में संभलकर चलने में ही महानता है | बार – बार ठोकर लगने पर यहाँ न समझना चाहिए की राह विकट है और इस पर तो चलना बेकार है | Rate this postRead Full Quote

Share this with friends
Prernadayak

आशा का दामन कभी न छोड़ें | आशा ही वह ज्योंति है जो आपकी अंधेरी राहों को प्रकाशित करती है | आशा को अपना साथी बनाएं और हर चीज का उज्जवल पक्ष ही देखें | याद रखें, अंधेरा सदैव निराशा को ही आमंत्रण देता है | Rate this postRead Full Quote

Share this with friends
Prernadayak

निराशा का फंदा बेहद सख्त होता है पर ऐसा नहीं कि इससे निकला ही न जा सके | सकारात्मक विचारों को मन में जगह दें, निराशा का फंदा स्वत: ही खुल जाएगा | Rate this postRead Full Quote

Share this with friends
Prernadayak

निरंतर श्रम ही आपकी प्रगति का साथी है | पर ध्यान रहे ! श्रम को सकारात्मक बनाएं विनाशक नहीं | श्रम एक अपराधी भी करता है, पर उसका लक्ष्य किसी को क्षति पहुंचाना या उसके प्राण लेना ही होता है | Rate this postRead Full Quote

Share this with friends
Prernadayak

परिस्थितियों के गुलाम कभी न बने | प्रयास यह करें कि परिस्थितियां आपके नियंत्रण में रहें |  याद रखें , परिस्थितियों  के छत्ते से निकली मधुमक्खियां दुःख के ही डंक मारती हैं | Rate this postRead Full Quote

Share this with friends
Prernadayak

यदि आप को सोचने की लत है, तो ऊँची बात सोचिए, यत्न करना चाहते हैं , तो ऊपर उठने के यत्न कीजिए, दृष्टि उठाते हैं , तो ऊपर को उठनी चाहिए  | सारांश यही है कि आप अपने जीवन का रुख प्रगति की और रखें | Rate this postRead Full Quote

Share this with friends
Prernadayak

यदि कोई युवक अपने शिक्षा – काल में सदाचारी रहकर जीवन व्यतीत कर लेता है तो यह समझ लेना चाहिए की वह जीवन- भर के लिए कुछ बन गया !  उस काल में प्राप्त हुए सिद्धि उसके महान ऐश्वर्य के समान है ! Rate this postRead Full Quote

Share this with friends
Prernadayak

एक राष्ट्र को मजबूत और आजाद रखने के लिए कुछ ऐसे बातें, जो हमेसा मौजूद होगी जब तक मूल्यों और चरित्रों को कायण रखा जायेगा, एक राष्ट्र और उसके लोग सदैव जीवित रहेंगे ! Rate this postRead Full Quote

Share this with friends