यदि आप को सोचने की…

Prernadayak

यदि आप को सोचने की लत है, तो ऊँची बात सोचिए, यत्न करना चाहते हैं , तो ऊपर उठने के यत्न कीजिए, दृष्टि उठाते हैं , तो ऊपर को उठनी चाहिए  | सारांश यही है कि आप अपने जीवन का रुख प्रगति की और रखें |

Rate this post
Share this with friends

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.